Wednesday, 9 September 2015

बाजीराव मस्तानी का आइना महल - मुगल-ए-आजम के बाद अब तक का सबसे महंगा सेट


 भव्यता भी भारतीय सिनेमा के जीवन का पर्याय बन चूका है , और अब निर्देशक संजय लीला भंसाली ने खुद अब   तक  का सबसे  महंगा  सेट  बनाया  है   
निर्देशक संजय लीला भंसाली ने एक बार फिर से आइना महल बनाया जो फिल्म 'मुगल-ए-आजम" में  नज़र  आई  थी जो उस समय का सबसे महंगा सेट थ.  
इस सेट को बनाने में लगभग ३५ दिन लगे , जिससे डिज़ाइन किया है "सुजीत श्रीराम और सलोनी ने" इस सेट पर जो आईने इस्तेमाल किये गए हैं जयपुर से मंगाया गया है और जिसे रचनात्मक पर्यटकों खुद चुना हैं 
इस सेट पर लगभग बीस हज़ार आइनों का उपयोग किया गया है और इस सेट को  बनाने के लिए खासतौर पर जयपुर से कारीगर को बुलाया गया था ताकि सेट को वास्तविक रूप दे सके. इतना ही नहीं इस विशाल सेट को बनाने के लिए लगभग १२,५०० स्क्वेर फ़ीट जगह का उपयोग किया गया है और सबसे खास बात तो यह है की फ्रेम के एक कोण 20,000 दर्पण में प्रतिबिंबित करता है।
सेट के लिए सबसे गर्व की बात तो यह है की  १३ दीपवृक्ष को बार बार मोमबत्तियों से प्रकाशित करना पड़ता है  
 
This s appearing in Ht cafe to.ortow mostly, pl giv regional and national accrdngly
> Bajirao Mastani's Aena Mahal - most expensive set after Mughal-e-Azam !
>
> Synonymous with larger-than-life cinema and grandeur, Sanjay Leela Bhansali outdoes himself and has created what might be his most extravagant set this far.
>
> The filmmaker has recreated Aena Mahal, on the lines of the mirror covered Mughal-e-Azam set and is the most expensive set so far after the cult film.
>
> The set which took over 35 days to create, has been designed by Sujit Sriram and Saloni with the mirrors being called from Jaipur, all handpicked by the creative maverick himself.
>
> Over 20,000 intricately designed mirrors have been used to put the set together.Special karigars from jaipur were summoned to work on the embedding of the mirrors to maintain authenticity.The massive set measures 12,500 sq feet .What's even more awe inspiring is that one angle of the frame reflects in the 20,000 mirrors.
>
> The set also boasts of 13 chandeliers which have to lit up every time with candles and not your traditional lighting.

No comments:

Post a comment