Friday, 19 October 2018

Hon. Union Minister Shri Mukhtar Abbas Naqvi Announces Haj 2019 And Unfurled The Highest Tricolor At Haj House



100 percent digital and without subsidy Haj 2019 was announced today at Haj House, Mumbai, Two months before schedule comparing to the last year’s Haj. While announcing Haj 2019 here at Haj House, Mumbai,Union Minister for minority affairs shri mukhtar abbas naqvi today said that it is for the first time that preparations for next year’s Haj (2019) has been started immediately after completion of the current year’s Haj Process (2018).

Shri Naqvi said online application process for Haj 2019 will be started from tomorrow 18th October while offline application process will start from 22nd October 2018. A total of 3,55,604 applications had been received for Haj 2018 which included 1,89,217 male and 1,66,387 female applicants. 

Shri Naqvi said that early stage of Haj process will ensure better facilities as well as smooth Haj process as the concerned agencies, both in india and saudi arabia, will get sufficient time for arrangements. Process of airlines tender will be completed by November and accommodations process in Makkah and Madina will be completed by December- January. The accommodation rates in Saudi Arabia will be sane as it was in 2018. All 20 embarkation points will be functional and Haj pilgrims will also be able to go from calicut airport.

Shri Naqvi said that Haj 2018 was pro-pilgrims even after removal of Haj subsidy. Elimination of middlemen and 100 percent online and transparent system ensured that even after removal of Haj subsidy, there was no unnecessary financial burden on pilgrims. 
In 2017, a total of rs 1030 crore was paid to airlines for airfare for 1,24,852 Haj pilgrims, going through Hah committee of India. It means, Rs 57 crore less was paid to airlines this year even after ending Haj subsidy.

Shri Naqvi said that Haj 2018 was successful. For the first time after the independence a record number of 1,75,025 Muslims from India performed Haj this year and that too without any subsidy. We are hopeful that indian Muslims will go in large number for Haj 2019 in comparison to the Haj 2018.

Shri Naqvi said that safety and better facilities, medical facilities for the pilgrims is the priority of the government and there will be no lackadaisical approach on the matter.

On the occassion, Shri Naqvi inaugrated ‘Viewers Gallery’ at the Haj house and unfurled monumental National Flag on the roof top of Haj House, Mumbai.

This monumental Indian National flag of size 20 feet by 30 feet on the high mast of 20 meter height has been installed on rooftop of Haj House making jt 350 feet High from ground level.
It is believed that this will be the highest tricolor installed on terrace of any building with such height (116 meters from sea level)

माननीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने हज 2019 के ऐलान‌ के साथ ही सबसे ऊंचे राष्ट्र ध्वज को हज हाउस में फहराया

आज मुम्बई के हज हाउस में 100 फीसदी डिजिटल और बिना सब्सिडी वाले हज का ऐला‌न‌ किया गया. पिछले साल की तुलना में हज के शेड्यूल से दो महीने पहले इस बात का ऐलान किया गया है. हज हाउस में 2019 कर हज ऐलान करने हुए माननीय केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है कि 2018 के हज के पूरा हो जाने के तुरंत बाद 2019 के हज की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है. 

श्री नक़वी ने कहा कि 
2019 के हज के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रकिया कल से यानि 18 अक्तूबर से और ऑफलाइन प्रक्रिया 22 अक्तूबर से शुरू कर दी जायेगी. हज 2018 के लिए कुल 3,55,604 आवेदन प्राप्त हुए, जिसमें 1,89,217 पुरुष और 1,66,387 महिला आवेदक थीं. 

श्री नक़वी ने कहा कि हज की जल्द शुरू की जा रही प्रकिया से बेहतर सुविधाएं जुटाने में मदद मिलेगी. इसके अलावा, भारत और सऊदी अरब की एयरलाइन‌ एजेंसियों को इंतजाम के लिए खासा वक्त मिल जायेगा. 

एयरलाइन्स के टेंडर की प्रक्रिया नवंबर तक पूरी हो जायेगी, जबकि मक्का और मदीना में रहने की व्यवस्था से संबंधित तमाम प्रक्रिया दिसंबर-जनवरी तक पूरी हो जायेगी. सऊदी अरब में रहने की व्यवस्था की दर में कोई बदलाव नहीं होगा और ये 2018 के बराबर ही होगी. हज यात्रा के सभी 20 मार्ग सुचारू रहेंगे और इसके अतिरिक्त हज यात्री कालिकट एयरपोर्ट से हज यात्रा कर सकेंगे.

श्री नक़वी ने‌ कहा कि सब्सिडी के हटाये जाने के बावजूद 2018 की हजयात्रा काफी सफल रही. दलालों के खात्मे और आवेदन की प्रक्रिया 100 फीसदी ऑनलाइन करने के बाद के बाद बनी पारदर्शी व्यवस्था ने ये साबित किया है कि सब्सिडी के हटने के बाद भी हज यात्रियों पर आर्थिक बोझ नहीं पड़ा है.

2017 में कुल 1030 करोड़ रुपये हवाई यात्रा के लिए एयरलाइन्स को दिये गये थे, जिससे हज कमिटी की मार्फ़त कुल 1,24,852 हजयात्रियों ने हज यात्रा की थी. इसका मतलब ये हुआ कि सब्सिडी खत्म‌ किये जाने के बाद 57 करोड़ रुपये कम एयरलाइन्स को अदा किये गये.

श्री नक़वी ने कहा कि 2018 की हज यात्रा कामयाब रही. आजादी के बाद पहली बार भारत के 1,75,025 मुसलमानों ने इस साल हज यात्रा की. हमें उम्मीद है कि 2018 की तुलना में अगले साल और भी भारी संख्या में मुसलमान हज यात्रा के लिए जायेंगे.

श्री नक़वी ने कहा कि सुरक्षा और बेहतर सुविधाएं, हज यात्रियों के लिए बेहतर मेडिकल सुविधाएं सरकार की प्राथमिकता है और इसे लेकर सरकार कोई सुस्ती नहीं बरतेगी.

इस मौके‌ पर मुख़्तार अब्बास नक़वी ने हज हाउस में 'दर्शक दीर्घा' का उद्घाटन किया और हज हाउज के रूफ़ टॉप पर विशाल राष्ट्र ध्वज लहराया. इसका आकार 20×30 फुट है और इसे हज हाउज पर 20 मीटर के हाई मास्ट के सहारे स्थापित किया गया है. इस तरह इसकी कुल ऊंचाई जमीनी स्तर से 350 फुट है. ऐसा माना जा रहा है कि ये किसी भी इमारत के टेरेस पर फहराया गया सबसे ऊंचा राष्ट्र ध्वज है, जिसकी कुल ऊंचाई समुद्र तट से 116 मीटर है.

No comments:

Post a Comment