Tuesday, 11 August 2015

​कलकत्ता में भी है एक मांझी।


सुभाषिनी मिस्त्री यह एक ऐसा नाम है जिसे कलकत्ता में मांझी के नाम से भी जाना जाता है , हालही में मांझी द माउंटेन मेन की टीम प्रमोशन के लिए कोलकत्ता पहुंचे तब उन्होंने , सुभाषिनी मिस्त्री से मुलाकात की। इस दौरान सुभाषिनी ने मांझी के टीम से बाते की।  सुभाषिनी की बात करे तो वे पाने जिंदगी में बहुत कष्ट से आगे आयी है। २३ साल की उम्र में उनका पति का साथ छूट गया क्यूंकि वे पति के इलाज का खरचा उठा न सकी। पति के जाने के बाद उन्होंने मूड कर नहीं देखा, बच्चो के पालन पोषण के लिए उन्होंने सब्जियां बेचीं तथा घरो में बर्तन तक माँझे ।  कुछ सालो बाद उन्होंने एक बीघा जमीन खरीदी और उस पर एक अस्पताल बनाया जिससे गरीब से गरीब लोगो की मदत हो सके, अब सुभाषिनी के दो अस्पताल है और एक अस्पताल में उनका एक बेटा खुद डॉक्टर है। यहाँ तक पहुंच ने के लिए सुभाषिनी ने ४७ साल कड़ी मेहनत की है अब वे तक़रीबन ७० साल की है और समाज सेवा से जुडी हुई है इसी लिए कलकत्ता की सरकार ने भी उनका गौरव किया गया है। 

No comments:

Post a comment